मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने आंगनबाड़ी केन्द्र का औचक निरीक्षण किया

Azamgarh Azamgarh Admistration

मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने बुधवार को विकास खण्ड रानी की सराय अन्तर्गत ग्राम फिरुद्दूपुर स्थित आंगनबाड़ी केन्द्र का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान हर स्तर पर पाई गयी कमियों पर उन्होंने सख्त नाराजीग व्यक्त करते हुए डीपीएम (जिला कार्यक्रम प्रबन्धक) के साथ ही एएनएम, आंगनबाड़ी कार्यकत्री, आशा आदि को आगाह किया यदि एक माह के अन्दर कार्यों में सुधार नहीं होता है सम्बन्धित के विरुद्ध दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी। मण्डलायुक्त द्वारा उक्त आंगनबाड़ी केन्द्र के निरीक्षण में अवगत कराया गया कि गांव के यादव पुरवा का टीकाकरण किया जा रहा है। मौके पर टीकाकरण के लिए 10 लाभार्थियों का नाम दर्ज पाया गया, परन्तु टीकाकरण केवल एक का ही हुआ था। टीकाकरण रजिस्टर के अवलोकन में वह अद्यतन नहीं पाया गया। इसके अलावा रजिस्टर में अंकित अनुराग नामक बच्चे को लगे टीके और अवशेष टीके के बारे में पूछे जाने पर आंगनबाड़ी कार्यकत्री सुनीता द्वारा सन्तोषजनक जवाब नहीं दिया गया। मण्डलायुक्त ने उस बच्चे के घर से टीकाकरण सम्बन्धी कार्ड मंगाकर देखा तो उस पर भी स्पष्ट अंकन नहीं था। इसी प्रकार गर्भवती महिलाओं की संख्या एवं उनके टीकाकरण सम्बन्धी रजिस्टर भी अद्यतन नहीं मिला। मण्डलायुक्त द्वारा आगामी माह में होने वाली डिलिवरी, गर्भवती महिलाओं के पूर्ण टीकाकरण, टीकाकरण हेतु अवशेष गर्भवती महिलाओं आदि की संख्या के बारे में पूछे जाने पर एएनएम, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकत्री द्वारा कोई सन्तोषजनक उत्तर नहीं दिया गया। कब-कब टीकाकरण किया जाना है, इस सम्बन्ध में भी उन लोगों को कोई जानकारी नहीं थी। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने इस स्थिति पर सख्त नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि इन लोगों द्वारा शासकीय कार्यों में कोई रूचि नहीं ली जा रही है और उच्च स्तर से प्राप्त दिशा निर्देशों का अनुपालन भी नहीं किया जा रहा है। टीकाकरण स्थल पर एचबी टेस्टिंग किट्स, शूगर टेस्टिंग किट्स, बीपी मशीन भी उपलब्ध नहीं पाई गयी। इस सम्बन्ध में अवगत कराया गया कि यहाॅं उपलब्ध नहीं है। इसके अलावा गर्भवती महिलाओं की जाॅंच हेतु पर्दा घर भी नहीं बनाया गया था। उन्होंने इस स्थिति पर भी असन्तोष व्यक्त करते हुए कहा कि बिना सामान के टेस्टिंग संभव ही नहीं है। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने कहा कि इस घोर लापरवाही और शासकीय कार्यों के प्रति बरती जा रही उदासीनता से स्पष्ट होता है कि डीपीएम द्वारा अपने पर्यवेक्षणीय दायित्वों का सुचारु रूप से निर्वहन नहीं किया जा रहा है। उन्होंने डीपीएम अरशद अन्सारी को सख्त हिदायत दी कि इस आंगनबाड़ी केन्द्र पर उपलब्ध सभी सामग्री, रजिस्टर के साथ ही सारी योजनओं के क्रियान्वयन की तत्काल जाॅंच कर वस्तुस्थिति से अवगत करायें। उन्होंने डीपीएम को यह भी निर्देश दिया कि जनपद के सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों की समीक्षा कर लें तथा एक माह के अन्दर सुधार लाना सुनिश्चित करें। यदि एक माह के अन्दर अपेक्षित सुधार नहीं पाया गया तो निश्चित रूप से डीपीएम के साथ ही अन्य सम्बन्धित कर्मचारियों के विरुद्ध दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *